समान मासिक किस्‍त यानी ईएमआई क्‍या है 2023-2024

0
(0)
WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Now

साथियो, आज हम बताने जा रहे हैं कि ईएमआई क्‍या है। आजकल हम EMI शब्द को अपने जीवन में बार-बार सुनते हैं। यह चाहे स्टूडेंट लोन हो, होम लोन, व्हीकल लोन, या किसी भी प्रकार का अन्य लोन, आपको लोनदाता को जो मासिक धनराशि चुकानी पड़ती है, उसे EMI या समान मासिक किस्त कहा जाता है। इसकी मूल बातों को जानने और समझने के लिए, आइए ईएमआई क्‍या है वाले इस ब्‍लॉग पोस्‍ट को अंत तक पढ़ें।

आप EMI व्यवस्था के अंतर्गत मोबाइल फोन या लैपटॉप जैसे अनेक वस्तुओं को भी खरीद सकते हैं, प्रारंभिक न्यूनतम राशि का भुगतान कर और बाकी बची राशि को EMI के रूप में चुका सकते हैं। परन्तु EMI का असली अर्थ क्या है, और किसी कर्जदार के लिए यह कैसे फायदेमंद होता है?

क्‍या है ईएमआई (समान मासिक किस्त)

ईएमआई क्‍या है? जैसा कि समझा जाता है, समान मासिक किस्तें या ईएमआई वो नियत रकम होती हैं जो लोनधारी हर माह लोनदाता को देता है। इसकी पूर्व निर्धारित तारीख होती है। यह व्यवस्था उत्पाद, सेवा या ऋण के लिए होती है। मूल राशि और ब्याज दोनों इसमें शामिल होते हैं, जिससे लोन का भुगतान सुनिश्चित अवधि में सुविधाजनक हो जाता है।

ईएमआई का उपयोग विभिन्न प्रकार के लोन में होता है, जैसे ऑटो लोन, घर के लिए बंधक, स्‍टुडेंट लोन आदि। इससे उधारकर्ता नियत समय तक ऋणदाता को निर्धारित किस्तें देकर पूरा ऋण चुका सकता है. [ईएमआई क्‍या है]

इसे भी पढ़ें —-दुकान के लिए लोन कैसे लें, जाने इसकी आसान प्रक्रिया

समान मासिक किश्तों, यानी ईएमआई का चुनाव ऋण चुकता करने के लिए अधिकतर किया जाता है। इस व्यवस्था से उधारकर्ता को प्रत्येक महीने एक नियत राशि चुकाने की सटीक जानकारी मिलती है। यह जानने की सुविधा उन्हें मानसिक सहुलियत देती है, यह सोच कर कि उन्हें पूरी राशि एक बार में नहीं चुकानी पड़ेगी। इस प्रकार वे अपनी आय और व्यय का योजनाबद्ध प्रबंधन कर सकते हैं, यह जानते हुए कि प्रति माह कितनी राशि चुकानी है। [ईएमआई क्‍या है]

कैसे काम करती है ईएमआई (समान मासिक किस्त)

कैसे काम करती है ईएमआई
कैसे काम करती है ईएमआई

विभिन्न वित्तीय योजनाओं का मुकाबला करते समय, समान मासिक किस्त और ईएमआई परिवर्तनीय भुगतान योजनाएँ कुछ अलग होती हैं। समान मासिक किस्त या ईएमआई योजनाओं में एक निश्चित राशि का भुगतान करना होता है, जबकि ईएमआई योजनाओं में लोनकर्ता को अपनी सुविधा के अनुसार विभिन्न राशि का भुगतान करने का विकल्प मिलता है। यह समान मासिक किस्त और ईएमआई योजनाओं के बीच मुख्य अंतर है। [ईएमआई क्‍या है]

इसे भी पढ़ें —-पीएमईजीपी लोन कैसे लें, जाने इसकी आसान प्रक्रिया

समान मासिक किस्त या ईएमआई योजनाओं का उद्देश्य लोन लेनेवाले और लोनदेने वाले को वित्तीय प्रबंधन में मदद करना है, लेकिन इन दोनों में तरीका अलग होता है। ईएमआई योजनाओं में एक निश्चित तारीख पर निश्चित राशि का भुगतान करना होता है, जबकि समान मासिक किस्तों में भुगतान की तारीख और राशि विभिन्न हो सकती हैं। [ईएमआई क्‍या है]

ईएमआई के माध्यम से भुगतान करने का विकल्प चुनकर, उधारकर्ता को अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने में सहायक होता है, और उन्हें हर महीने किए जाने वाले भुगतान की निश्चित राशि का पता होता है। वह अपनी बचत और खर्च को इसके अनुसार प्रबंधित कर सकते हैं। दूसरी ओर, ऋणदाताओं को ईएमआई से लाभ होता है, क्योंकि उन्हें उधारकर्ताओं द्वारा किए गए मासिक ईएमआई भुगतान से निश्चित आय का स्रोत मिलता है। [ईएमआई क्‍या है]

इसे भी पढ़ें—-एसबीआई से पर्सनल लोन कैसे लें, जानिए इसकी प्रक्रिया

ईएमआई योजनाओं का विकल्प चुनने के साथ, उधारकर्ता अपने सपनों के उत्पादों और सेवाओं को आसानी से खरीद सकते हैं, जैसे कि फ़ोन, लैपटॉप और अन्य महंगे उत्पाद। इससे उन्हें अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने का बेहतर विकल्प मिलता है।

कैसे की जाती है ईएमआई की गणना: ईएमआई क्‍या है

समान मासिक किस्त और ईएमआई की गणना के लिए आप विभिन्न तरीकों का उपयोग कर सकते हैं। यह जानने के लिए कि ये विधियाँ कैसे काम करती है और आप ईएमआई राशि की गणना करने के लिए इनका उपयोग कैसे कर सकते हैं, हम इन गणना विधियों को विस्‍तार से जानने और समझने की कोशिश करते है। [ईएमआई क्‍या है]

आप ईएमआई की गणना के लिए फ्लैट रेट पद्धति का उपयोग कर सकते हैं, जिसमें आपके बोर्रोविंग प्रिंसिपल पर एक स्थिर ब्याज दर के साथ एक निश्चित समय के लिए भुगतान की गणना की जाती है। इसमें मुख्य बात यह है कि यह रेट आपके भुगतान के समय तक बराबर रहता है, इसका मतलब है कि आपकी मासिक किस्त हर महीने समान रहेगी।

दूसरी ओर, घटती शेष पद्धति का उपयोग करने पर आपके बोर्रोविंग प्रिंसिपल पर प्रत्येक मासिक किस्त के बाद एक घटती प्रतिशत लागू होती है। इसका मतलब है कि आपकी मासिक किस्तें प्रत्येक महीने कम होती जाएगी, जिससे आपका प्रिंसिपल और ब्याज दोनों कम होते जाएंगे। [ईएमआई क्‍या है]

आपको यह तय करना है कि कौनसी गणना विधि आपके वित्तीय लक्ष्यों और स्थितियों के साथ सबसे अच्छी तरह से मेल खाती है और फिर आप उसे अपनी ईएमआई की गणना के लिए उपयोग कर सकते हैं।

फ्लैट रेट पद्धति या विधि

फ्लैट रेट पद्धति या विधि
फ्लैट रेट पद्धति या विधि

फ्लैट रेट पद्धति का उपयोग करके समान मासिक किस्त या ईएमआई की गणना मूल ऋण राशि और मूल राशि पर ब्याज जोड़कर की जाती है, तथा फिर कुल परिणाम को अवधियों की संख्या से महीनों की संख्या से गुणा करके विभाजित किया जाता है। [ईएमआई क्‍या है]

इसे भी पढ़ें—पीएम विश्वकर्मा योजना से लोन कैसे मिलेगा, जानें इसकी प्रक्रिया

आइए इस गणना को एक प्रासंगिक उदाहरण से समझते हैं। उदाहरण के लिए, आप 3.5% की ब्याज दर पर 4,00,000 रुपये का स्‍टूडेंट लोन लेते हैं, जिसका भुगतान 10 वर्षों की अवधि में किया जाना है। फ्लैट रेट पद्धति के अनुसार ईएमआई की गणना इस प्रकार होगी:

गणना ईएमआई =

(4,00,000 + (4,00,000 x 10 x 0.035) ) / 10 x 12 = 648,000/ 120 = 5,400

इसतरह हम फ्लैट रेट पद्धति द्वारा ऊपर बताये गये गणना के अनुसार प्रति माह समान मासिक किस्‍त या ईएमआई के रूप में चुकाने वाली राशि ₹5,400 होगी।

घटती शेष पद्धति या‍ विधि

इस विधि का उपयोग कर समान मासिक किस्‍त या ईएमआई की गणना करने की विधि जानने के लिए कुछ सूत्र को बारिकी से समझना होगा। [ईएमआई क्‍या है]

सूत्र निम्‍न है:— (पी एक्स आई) एक्स ((1 + आर)एन) / (टीएक्स ((1+आर)एन)

इसमें P का मतलब मूल राशि है जो उधार ली गई है।

मैं राशि पर वार्षिक ब्याज दर के पक्ष में हूं।

R (आर) का मतलब भुगतान की जाने वाली मासिक ब्याज दर है

T (टी)  वर्ष में महीनों की संख्या को दर्शाता है

N (एन)  का मतलब कुल मासिक भुगतान है

ईएमआई की राशि जानने हेतु, आपको उल्लिखित गणितीय सूत्र में उचित मान भरने होंगे, जो प्रतिमाह देय होती है। इसके अलावा, अपने ऋण की नियत मासिक किस्त अथवा ईएमआई निर्धारित करने के लिए आप इन सूत्रों में से एक या दोनों का चयन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंपेटीएमलोन कैसे लें, जानिए इसकी प्रक्रिया

ईएमआई को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारक

ईएमआई या इक्वाटेड मंथली इंस्टालमेंट को प्रभावित करने वाले तीन मुख्य कारक होते हैं: मूल ऋण राशि, ब्याज दर, और ऋण अवधि।

ईएमआई को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारक
ईएमआई को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारक

पहला, मूल ऋण राशि, वो धनराशि होती है जिसे आप बैंक या वित्तीय संस्था से लोन के रूप में लेते हैं। इसकी अधिकता से आपकी ईएमआई भी बढ़ती है।

दूसरा, ब्याज दर, वो प्रतिशत होता है जो ऋणदाता उधार दी गई राशि पर आपसे वसूलता है। अधिक ब्याज दर का मतलब है अधिक मासिक किस्त।

अंत में, ऋण अवधि वो समय सीमा होती है जिसमें आपको पूरा ऋण चुकाना होता है। लम्बी अवधि का अर्थ है छोटी ईएमआई, परंतु अधिक कुल ब्याज भुगतान। इन तीनों कारकों का संतुलन आपकी ईएमआई को निर्धारित करता है।

FAQs

बैंक में ईएमआई क्या होता है?

ईएमआई उस मासिक भुगतान को कहते है जो आपको बैंक से पैसे उधार लेते समय करना होता है। यह एक निश्चित राशि की तरह है जिसे आपको हर महीने बैंक को तब तक देना होता है जब तक आप लोन लिये गये सारे पैसे वापस नहीं कर देते। [ईएमआई क्‍या है]

5 साल के लिए 5 लाख पर्सनल लोन की ईएमआई कितनी है?

ग्रो द्वारा प्रदान किए गए कैलकुलेटर में कहा गया है कि यदि आप पांच साल की अवधि के लिए 10.85% की ब्याज दर के साथ व्यक्तिगत ऋण के रूप में 5 लाख रुपये उधार लेते हैं, तो आपकी मासिक समान मासिक किस्त (ईएमआई) 10,834 रुपये होगी।

ईएमआई का पूरा नाम क्या है?

ईएमआई, समान मासिक किस्त का संक्षिप्त रूप है, जो मासिक आधार पर भुगतान की जाने वाली एक निश्चित राशि को दर्शाता है।

उपसंहार—दोस्‍तो, अभी हमने इस आलेख में पूरी जानकारी दी है कि ईएमआई क्‍या है अगर आप किसी तरह के लोन लेना चाहते हैं तो हमारे इस ब्‍लॉग पर आइए और सारी जानकारी लेकर आप अपने लोन की आवश्‍यकता को पूरा करें। यदि यह जानकारी आपको अच्‍छी लगी हो तो इसे अपने सगे-संबंधियों और दोस्‍तों को शेयर करें तथा इस ब्‍लॉग पर वीजिट करें। धन्‍यवाद।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

कम ब्‍याज पर ये 5 तुरंत लोन देने वाला ऐप, 5 मिनट में रुपया खाते में